Saturday, 2 April 2016

कुछ दर्द अभी भी चुभते हैं ;

कुछ दर्द अभी भी चुभते हैं ;
कुछ जख्म अभी भी दुखते हैं।

पलकों तक आकर ये आंसू ;
फिर मुश्किल से ही रुकते हैं।

बाहर से हँसते फिरते हैं जो ;
दिल ही दिल में वो घुटते हैं।

दर्द जो समझे तनहा दिल के ;
वो उनके दिल में रुकते हैं ।

साथी न रहे जिसका कोई ;
वो तनहा ही तो रहते हैं।

तनहा खाली सड़कों पर ही ;
अक्सर सब ही तो मुड़ते हैं।।,.. प्रीति सुराना

1 comment: