Tuesday, 29 October 2013

मेरी लंबी कहानी,..

बोए थे कुछ अरमानों के बीज,..
देखा तो सपनों की फसल हुई,..

नींद खुली तो सपनें ओझल थे,..
तब मन की हालत विकल हुई,..

मन को तो समझाया जैसे-तैसे,..
पर खुशियां जीवन में विरल हुई,..

निकलना चाहा यादों के डेरे से,..
पर हर कोशिश मेरी विफल हुई,..

किया अनसुना लोगों की बातों को,..
ये मुश्किलें तब कुछ सरल हुई,...

वैसे तो बहने थे आंसू बहुत,..
पर मेरी आंखें बस सजल हुई,..

यूं तो थी  मेरी लंबी कहानी,..
लिखी तो बस इक गजल हुई,..,..प्रीति सुराना

8 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. Vireh ras ki adbhut rachna, ek vyavharic gazal.Teri zustaju me sambhala hai dard ke khawabo ko meri sajal aankhon ne !

    ReplyDelete
  3. सपनों की सुन्दर फसल, अरमानों का बीज।
    कल्पनाओं पर हो रही, अब तो कितनी खीझ।।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी.बेह्तरीन अभिव्यक्ति!शुभकामनायें.

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete