Wednesday, 18 April 2012

उस मोड़ पर्


जब मैनें कहा तुमने सुना,कुछ कहा नहीं,

जब तुमने कहा मैने सुना,कुछ कहा नहीं,

साथ चलते रहे और पहुचे उस मोड़ पर्,

जहा कहने सुनने को अब कुछ रहा नही,.... प्रीति

0 comments:

Post a Comment