Wednesday, 18 April 2012

कमबख्त


मेरी सांसे भी कमबख्त मेरी नही हैं
चलती मुझमें है बसती उनमें है,...प्रीति

0 comments:

Post a Comment