Wednesday, 18 April 2012

शर्मिन्दा


अपनी बेशर्मी पर मैं अब तक इसलिये शर्मिन्दा हूं
कि तुमसे जुदा होकर भी मै अब तक जिन्दा हूं ,..प्रीति

0 comments:

Post a Comment