Tuesday, 3 April 2012

किराएदार



दर्द बेदर था 
तो मैनें पनाह दे दी 
कुछ वक्त के लिए

पर वो तो अब 
जाने का 
नाम ही नही लेता

दिल मे मेरे
कब्जा कर बैठा है 
पुराने किराएदार की तरह,.......प्रीति

0 comments:

Post a Comment