Sunday, 4 December 2011

विकृति



यूं तो हर रात की सुबह होती है
यही प्रकृति है
पर जिस रात की सुबह न हो.....
वो भाग्य की विकृति है......प्रीति

0 comments:

Post a Comment