Tuesday, 29 November 2011

जिंदगी की थकन


भीगे भीगे नय़न ये सुखा लें जरा,
रो लिए हैं बहुत मुस्कुरा लें ज़रा,
दूर कर जो सके जिंदगी की थकन,
ऐसा कोई गुनगुना लें ज़रा,....प्रीति

0 comments:

Post a Comment