Tuesday, 29 November 2011

बेचैन है मेरी जिंदगी


बेचैन है मेरी जिंदगी,

दिल को मेरे 

ज़रा भी राहत नही है,..

मुझे फिर भी 

किसी से कोई 

शिकायत नही है,...

मैं हक अपना

किसी पे 

जताउं तो कैसे???

वो चाहत है 

मेरी कोई 

विरासत नही है,......प्रीति

0 comments:

Post a Comment