Tuesday, 29 November 2011

पंखुरी


न नोच डालो फूल की हर पंखुरी,....


दर्द का उसके तुम्हे एहसास क्या होगा????

हम भी उस दौर से गुज़रे हैं ए ज़ालिम,....

पूछ लो उस दर्द का एहसास कैसा था????......प्रीति

0 comments:

Post a Comment