Sunday, 3 December 2017

नियति इस प्रेम की,...

तुम्हारा आक्रोश
पल-पल झलकाता है
तुम्हें नहीं चाहिए बंधन
चाहे प्रेम के ही क्यूं न हों,..

हर बार मेरा
सहमकर रो पड़ना,
बार-बार याद दिलाया जाना
मुझे मेरी लक्ष्मणरेखा,..

फिर भी
स्वीकार
सबकुछ
प्रेम में भय ही क्यों न हो,..

हाँ! मैं डरती हूँ तुमसे,
बहुत, बहुत ज्यादा,
पर करती हूं विश्वास
प्रेम से भी ज्यादा,...

फिर
नियति
इस प्रेम की
जो हो सो हो,... प्रीति सुराना

2 comments:

  1. आदरणीय /आदरणीया आपको अवगत कराते हुए अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है कि हिंदी ब्लॉग जगत के 'सशक्त रचनाकार' विशेषांक एवं 'पाठकों की पसंद' हेतु 'पांच लिंकों का आनंद' में सोमवार ०४ दिसंबर २०१७ की प्रस्तुति में आप सभी आमंत्रित हैं । अतः आपसे अनुरोध है ब्लॉग पर अवश्य पधारें। .................. http://halchalwith5links.blogspot.com आप सादर आमंत्रित हैं ,धन्यवाद! "एकलव्य"

    ReplyDelete