Wednesday, 18 January 2017

आंखों का दिल से रिश्ता

सुख की कुछ किरचें क्या पड़ी,
बरसती रही आज दिनभर आंखें मेरी ,
और असर इतना की सीने में दर्द असहनीय सा,..
सच कहते हैं लोग आंखों का दिल से रिश्ता जरूर है।

प्रीति सुराना

2 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 19.1.17 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2582 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete