Thursday, 29 December 2016

हिम की चादर

22 22 212
हिम की चादर ओढ़कर,
सागर के उस छोर पर,
धरती अंबर से मिली,
सारे बंधन तोड़कर।

प्रीति सुराना

1 comment: