Thursday, 17 November 2016

पड़ा कलेजे घाव

यौवन की दहलीज पर,यूं रखते ही पांव।
मन जोगन सा ढूंढता,आज पिया का गांव।

ढूंढ ढूंढ जब थक गई, मिली पेड़ की छांव।
राह बताते लोग सब,दूर पिया का गांव।।

बीहड़ राहों पर चली,कंटक चुभ गए पांव।
नित नित मैं सोचूं यही, किसे कहूं मैं भाव।।

पोर पोर दुखने लगे, हावी होता ताव।
आखिर जाकर मिल गया, मुझे पिया का गांव।।

पिया मिलन की आस थी,जीत गई मैं दांव।
नैन बाण नैनन लगा, पड़ा कलेजे घाव।।

प्रीति सुराना

1 comment:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 18 नवम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete