Monday, 2 May 2016

तुम मेरे जग का उजियारा

मन से मांगा साथ तुम्हारा
तुम मेरे जग का उजियारा
चार पलों का ही है जीवन
तुझमें बसता है मेरा मन ,...प्रीति सुराना

1 comment:

  1. Looking to publish Online Books, in Ebook and paperback version, publish book with best
    Book Publishing, printing and marketing company

    ReplyDelete