Sunday, 24 April 2016

हृदय की कलम से

दहेज़ या गर्भपात,कुरीतियां समाज की,
हर एक विषय पे,भावों को बहाती रहूं ।

प्रदूषण,राजनीति,भ्रष्टाचार,दुराचार,
मुद्दा चाहे कोई भी हो,सोच मैं जताती रहूं ।

सुरों का भी ज्ञान नहीं,गीत नहीं गाया जाए,
तरन्नुम में न सही,तहत सुनाती रहूं ।

प्रसव के पीर जैसी,सृजन भी पीर सहे,
हृदय की कलम से , व्यथा मैं बताती रहूं ।

प्रीति सुराना

0 comments:

Post a Comment