Friday, 22 April 2016

हरी भरी वसुंधरा थी

रोक सको तो रोक लो प्रकृति के विनाश को
हरी भरी वसुंधरा थी याद करो इतिहास को
काट काट पेड़ हम नमी धरा की खो चुके
प्रदूषण व भूख-प्यास यही दिया समाज को,...प्रीति सुराना

0 comments:

Post a Comment