Tuesday, 19 April 2016

साथ मत छोड़ना

भावना से ओतप्रोत
     प्रेम से है भरा हुआ
छोटी छोटी बातों में ये
     दिल मत तोडना।

निभाने की चाह हो
      कठिन चाहे राह हो
रिश्ते यदि जोड़ लिए
       राह मत मोड़ना।

रिश्तों में विश्वास भी हो
      प्रेम का आभास भी हो
स्वार्थवश कभी कोई
      रिश्ता मत जोड़ना।

मुझसे जो नाता जोड़ो
      पहले ही ठान लेना
मुश्किलें भी आए यदि
       साथ नहीं छोड़ना,....प्रीति सुराना

0 comments:

Post a Comment