Wednesday, 19 December 2012

अब वक्त आ गया उठा शमशीर


उठ 
जाग स्त्री
छोड़ के सारी शरम
तोड़ दे सारे भरम
मिटा दे जग की सब पीर

अब वक्त आ गया उठा शमशीर

मृगनयनी 
सुलोचना
परी या हसीना 
मत कर नुमाईश 
कि तू है हुस्न की तस्वीर

अब वक्त आ गया उठा शमशीर

ममता की मूरत
कोमल हृदया
जननी या सृजनकर्ता
मत दिखा मन के भाव
कि तू है जीवन रक्षक प्राचीर

अब वक्त आ गया उठा शमशीर

अबला
बेचारी
कमजोर या लाचार
क्या क्या सुनेगी कब तक सुनेगी
सहेगी और कितने जहरीले तीर

अब वक्त आ गया उठा शमशीर

लक्ष्मी
शक्ति
सती या सरस्वती
पूजी गई तू हर रूप में
माना अच्छी है तेरी तकदीर

अब वक्त आ गया उठा शमशीर

दुर्गा 
चंडी
गौरी या कालिका
हर बार लिया अवतार तू ने 
जब भी बदली वक्त ने तासीर

अब वक्त आ गया उठा शमशीर

अत्याचार
दहेज उत्पीड़न
यौनशोषण या व्यभिचार
हर हाल मे पहनी है तूने
असीम दर्द की जंजीर

अब वक्त आ गया उठा शमशीर,......प्रीति सुराना

13 comments:

  1. बेहतरीन भाव और कविता.

    ReplyDelete
    Replies
    1. aabhar निहार रंजनji

      Delete

  2. दिनांक 24/12/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशवन्त माथुरji apka aabhar nayi purani halchal me sthan dene ke liye

      Delete
  3. सशक्त रचना..
    बेहतरीन !!

    अनु

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. सशक्त रचना ... जागरूक करने वाला आह्वान

    ReplyDelete
    Replies
    1. dhanywad संगीता स्वरुप ( गीत )

      Delete
  6. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete