Tuesday, 4 September 2012

कैसे??


सुनो!

तुम प्रेम मे 
मेरे साथ चलना चाहो

तो कभी 
मत बनना मुझ जैसे

वरना 
मेरा सीधा हाथ 

अपने सीधे हाथ से 
थामोगे कैसे,.....??,...........प्रीति

0 comments:

Post a Comment