Sunday, 23 September 2012

टूटते हुए तारे को देखकर


सुनो!

मैंने आज 
टूटते हुए तारे को 
देखकर दुआ मांगी है,
कि 
तुम्हे जिंदगी भर 
इतनी खुशियां मिले,
कि दोबारा कभी 
तुम्हारी 
खुशियों की दुआ 
पूरी करने के लिए,..

"किसीको"

टूटना न पड़े 
चाहे 
वह तारा ही क्यों न हो,..
तुम्ही कहते हो न,.. 
कि टूटते हुए तारे को देखकर 
जो भी मांगो 
मिल जाता है,......प्रीति सुराना

0 comments:

Post a Comment