Wednesday, 1 August 2012

क्षितिज


क्षितिज तक
साथ रहना मेरे
जो यूँ मिले हो,.....प्रीति

0 comments:

Post a Comment