Sunday, 22 July 2012

मेरे कानों में गूंजती है


सुनो!

तुम्हे याद है
पहली बार
जब मैंने तुम्हारी 
धड़कनें सुनी थी

आज भी

तनहाई में
मेरे कानों में गूंजती है
तुम्हारी धड़कन
और उसमें मेरा नाम,...प्रीति

0 comments:

Post a Comment