Saturday, 2 June 2012

बस उन्ही के हो जाते


उनके लिये हर इल्जाम 
हंसकर सह जाते,
मरते नही मानते है पर
जी भी न पाते,
तब शुक्र मनाते हम दिल से
खुदा का जब,
उन्हे खोने के बदले 
बस उन्ही के हो जाते,....प्रीति

0 comments:

Post a Comment