Saturday, 26 May 2012

यादों का ये कारवां


यादों का ये कारवां
प्रेम की गली से अकसर
नाहक ही गुजरता है
हदें कहां रोक पाती हैं उसे,....प्रीति

0 comments:

Post a Comment