Sunday, 22 April 2012

तेरी गलियो से


मैं तो रोज गुजरती हूं खयालों में,
तेरी राहो से तेरी गलियो से,
तेरी नजर न पड़े तो न पड़े,
पर मुझे तेरी महक तो आती है,... प्रीति

0 comments:

Post a Comment