Friday, 27 April 2012

मैं जिंदगी हूं


ए इंसान 
तेरी फितरत है यही,

तझे चाहिए वही 
तो तेरा नही,

तुने बना दिया 
इतना पेचीदा मुझे,

क्यूंकि तू 
मेरी सुनता ही नही,

मै सुंदर हूं 
और तेरी चाहत हूं,

मै सरल हू 
और तेरा रास्ता हूं,

मै सहज हूं 
और तेरी मंजिल हूं,

मैं जिंदगी हूं 
इतनी मुश्किल भी नही,.........प्रीति

0 comments:

Post a Comment