Tuesday, 24 April 2012

मैं तुझको जानू


तेरी धड़कन
तेरी सांसें 
तेरी छुअन
तेरी आहट भी 
मैं पहचानूं,
मेरे ख्वाबों में
खयालों में बस 
तू ही रहता है
तुझसे ज्यादा 
मैं तुझको जानू,....प्रीति

0 comments:

Post a Comment