Monday, 26 March 2012

यादों का कारवां


मैं ढूंढ रही हूं तुम्हारे कदमों के निशान
तुम तक पहुंचने के लिए,
दिल ने बताया तुम्हारी यादों का कारवां
अभी अभी यहां से गुजरा है,....प्रीति

0 comments:

Post a Comment