Saturday, 9 May 2015

नमी

झुकी हुई पलकों के तले,

छुपा रखी है नमी,

नमी 
जिसमें मेरे ख्वाबों की दुनिया है थमी,...प्रीति सुराना

3 comments: