Saturday, 8 September 2012

ये उदासियां मां सी


खुशियों के छिन जाने का 
डर सा बना रहता है,
पर कोई नही छीनता इनको,..

इसलिए तो मुझे पसंद है उदासी,..

छोड़ती नही है साथ 
जब तक जान है इसमें,
रखती है सीने से लगाकर मुझको,..

तभी लगती है ये उदासियां मां सी,..... प्रीति 

0 comments:

Post a Comment