Tuesday, 28 August 2012

उन्हे गवारा न था


हम वो कह गए जो 

सुनना उन्हे गवारा न था
सहते भी भला कब तक 
उसे जो ह्मारा न था,..प्रीति

0 comments:

Post a Comment